Skin treatment Hindi – Dry Oily, Normal ,Sensitive Skin- Beauty Tips

Dry, oily , sensitive skin treatment hindi

Skin treatment Hindi – (Chehre Ko Sunder Banane Ke Gharelu Nuskhe)चेहरे का सौन्दर्य चेहरे का सौन्दर्य –
चेहरे का आकर्षण सुंदर, स्वच्छ, कोमल, चिकनी, कांतिमय त्वचा पर निर्भर करता है। त्वचा शरीर का बाहरी आवरण होता है। जलवायु, वातावरण, तनाव, असंतुलित आहार आदि का प्रभाव त्वचा पर शीघ्र पड़ता है, जिसकी वजह से त्वचा की प्राकृतिक सुंदरता नष्ट हो जाती है। त्वचा के आकर्षण को बनाए रखने के लिए त्वचा की उचित देखभाल, सफाई तथा आवश्यक तत्वों द्वारा त्वचा को पोषण देने की आवश्यकता होती है।  त्वचा की उचित देखभाल के लिए त्वचा के मिजाज को जानना जरूरी है।

Dry, oily , sensitive skin treatment hindi

Home remedies for all skin type

Face Skin Type – Face Skin Treatment Hindi

त्वचा को निम्नलिखित भागों में विभाजित किया जा सकता हैः

1- सामान्य त्वचा (Normal Skin)

2- तैलीय त्वचा (Oily Skin)-

3- रूखी त्वचा (Dry Skin)-

4- मिश्रित त्वचा (Combination Skin)-

5- संवेदनशील त्वचा (Sensitive Skin)

Kaise Jaine Apki Skin Kis Type Ki Hai? कैसे पहचानें त्वचा का मिजाज ?

तैलीय त्वचा (Oily Skin) – टिशू पेपर टेस्ट द्वारा त्वचा को आसानी से पहचान सकते हैं। सुबह उठकर सबसे पहले टिशू पेपर टेस्ट करें। इसके लिए अलग-अलग टिशू पेपर लेकर अपने माथा, गाल, नाक, ठोड़ी पर दबाएं (रगड़ें नहीं)।-यदि भी टिशू पेपर पर तेल हैं, तो आपकी त्वचा तैलीय (Oily Skin) है।

मिश्रित त्वचा (Combination Skin) – यदि नाक, ठोड़ी, और माथे के टिशू पेपर पर तेल तथा गालों वाले टिशू पेपर पर बिलकुल भी तेल न हो, तो समझें आपकी त्वचा मिली-जुली है।

रूखी त्वचा (Dry Skin) – यदि किसी भी टिशू पेपर पर तेल न हो, तो इसका अर्थ है कि आपकी त्वचा रूखी या सामान्य है। -रूखी या सामान्य त्वचा को पहचानने के लिए आप अपने चेहरे को बेसन या आटे से साफ करें।

सामान्य त्वचा (Normal Skin) – यदि चेहरा खिंचा-खिंचा महसूस करें, तो आपकी त्वचा रूखी है।

-यदि त्वचा मुलायम, लचीली हो, तो आपकी सामान्य है।

संवेदनशील त्वचा (Sensitive Skin) – संवेदनशील त्वचा पर कील, मुंहासों की भरमार होती है।

1- सामान्य त्वचा (Normal Skin)  – सामान्य त्वचा में नमी और तेल का सही संतुलन होने की वजह से त्वचा में विशेष आकर्षण, ताजगी और हल्की लालिमा होती है। सामान्य त्वचा अच्छी प्रकार की त्वचा मानी जाती है।
सामान्य त्वचा की देखभाल-सामान्य त्वचा को सुंदर बनाए रखने के लिए सुबह-शाम त्वचा की सफाई करें।

-गहरा मेकअप न करें! इससे चेहरे की स्वाभाविक चमक छिप जाती है।

-स्नान के पहले चेहरे पर हल्की मालिश करें, जिससे त्वचा पर रक्त संचार होगा, त्वचा और सुंदर बनेगी।

-रात्रि में सोते समय मेकअप अवश्य उतार दें, जिससे त्वचा को पर्याप्त मात्रा में आॅक्सीजन मिल सके।

-त्वचा के पोषण व आकर्षण के लिए सप्ताह में एक बार उबटन अवश्य लगाएं।

-पंद्रह दिन में एक बार चेहरे पर भाप दें।

-पौष्टिक आहार का सेवन करें।

सामान्य त्वचा (Normal Skin ) के लिए उपाय Treatment in Hindi –

1- दो चम्मच गेहूँ का आटा लेकर पानी में गाढ़ा पेस्ट बना लें। इसे हल्का-सा गर्म करके, इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर चेहरे पर लगाएं। गेहूँ में पाया जाने वाला फाइबर त्वचा की मृत कोशिकाओं को साफ कर देता है। शहद त्वचा में खिंचाव पैदा कर त्वचा में रक्त संचार बढ़ा देता है। यह उपाय नियमित करने से त्वचा स्वस्थ एवं सुंदर बनी रहती है।

2- एक चम्मच चंदन का बूरा (पाउडर), आधा चम्मच हल्दी को दूध में मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे चेहरे पर अच्छी तरह से लगाएं। पंद्रह मिनट बाद चेहरे को हल्के गुनगुने पानी से धो लें। चंदन मृत कोशिकाओं को ठीक तरह से निकाल देता है।

3- दूध में पाए जाने वाले तत्व कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, प्रोटीन, लेक्टोज, विटामिन आदि तथा हल्दी में पाए जाने वाले तत्व त्वचा को सही पोषण देकर सुंदर, कोमल और स्वस्थ बनाए रखते हैं।

4- दो चम्मच मैदा को दूध में मिलाकर गर्म कर लें। ठंडा करके इसमें गुलाबजल मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 10-15 मिनट बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें। मैदा त्वचा में खिंचाव पैदा कर रक्त संचार को बढ़ा देती है, तथा मृत कोशिकाओं को अच्छी तरह से निकालती है। दूध अच्छे प्रकार का क्लींजर है। गुलाबजल में पाए जाने वाले तत्व त्वचा को पोषण देते हैं। इसमें पाया जाने वाला विटामिन ‘ई’ एंटी आक्सीटेंड का काम करता है।

5- एक अंडा, दो चम्मच दूध में मिलाकर अच्छी प्रकार से फेंट लें। इसे चेहरे और गर्दन पर लगाएं। 10-15 मिनट बाद हल्के गुनगुने पानी से छुड़ा लें। इसके बाद चेहरे पर ठंडे पानी के छींटे मारें। अंडे मंे पाए जाने वाले तत्व त्वचा के लिए काफी लाभदायक होते है। अंडा मृत कोशिकाओं को हटाकर ऊतकों के पुनर्निर्माण में मदद करत है।

6- दो चम्मच लौकी का रस, दो चम्मच पपीते का पेस्ट (पके वाले पपीते का गूदा), एक बादाम, 8-10 अंगूर, इन सभी को अच्छी प्रकार पीसकर मिला लें। इसमें एक चम्मच गुलाबजल मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 10-15 मिनट बाद चेहरा धो डालें। लौकी, पपीता, बादाम और अंगूर में पाए जाने वाले तत्व सामान्य त्वचा को पोषण देते हैं, जिससे त्वचा सुंदर बनी रहती है।

तैलीय त्वचा (Oily Skin Care Hindi) –  यह त्वचा चिकनी व चमकीली होती है। यह त्वचा अच्छी मानी जाती है, किंतु अधिक तैलीय व चिपचिपाहट होने पर कई बार अनेक प्रकार की समस्याएं भी उत्पन्न हो जाती है। इसलिए इस प्रकार की त्वचा को विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है। तैलीय ग्रंथि की अधिक सक्रियता की वजह से त्वचा की सतह पर तेल फैल जाता है, जिसकी वजह से कील, मुहांसे, ब्लैक हेड, दाग-धब्बे, झांइयां, झुर्रियां आदि की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

2- तैलीय त्वचा Oily Skin Care Hindi की देखभालः-

चेहरे को दिन-भर में दो-तीन बार पानी से अच्छी तरह साफ करें।

-रात को ोते समय मेकअप को अच्छी तरह से उतार लें। -दिन-भर में आठ-दस गिलास पानी अवश्य पिएं। पानी शरीर की ताजगी को बनाए रखता है।

-सप्ताह में दो बार चेहरे पर भाप लें, जिससे रोम-छिद्र अच्छी तरह से खुल जाएं। -सप्ताह में दो बार चेहरे पर उबटन लगाएं, जिससे त्वचा को पोषण मिले। -तेल, मसाले तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थो का अधिक सेवन न करें।

-चेहरे पर गहरा मेकअप न करें। गहरा मेकअप त्वचा के छिद्रों को बंद कर देता है, जिसे कोशिकाओं को शुद्ध हवा और प्रकाश नहीं मिल पाता है।

Oily Skin (तैलीय त्वचा) के लिए उपाय Treatment in Hindi –

7- एक चम्मच शहद, आधा चम्मच नीबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 15-20 मिनट बाद चेहरे को मिनरल वाटर से धो लें। शहद औश्र नीबू के तत्व त्वचा की तैलीयता को अच्छी तरह से निकाल देते हैं। इनमें पाए जाने वाले तत्व सोडियम, पोटेशियम, साइट्रिक एसिड, फास्फोटिक एसिड, सूक्रोज, ग्लूकोज, फ्रक्टोज आदि तैलीय ग्रंथि की सक्रियता को भी रोकते हैं।

8- तुलसी के ताजे पत्तों का पेस्ट दो चम्मच, एक चम्मच गुलाबजल मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 15-20 मिनट बाद चेहरे को ठंडे पानी से धो लें। तुलसी का यह पेस्ट अच्छे प्रकार का ब्लीच है। यह त्वचा की गहराई तक जाकर सफाई करता है यह पेस्ट मृत कोशिकाओं को अच्छी तरह से साफ करता है तथा तैलीय ग्रंथि के सक्रिय प्रभाव को कम करता है। गुलाबजल स्किन टाॅनिक है। इस पेस्ट के नियमित इस्तेमाल करने से त्वचा की तैलीयता कम होती है।

9- घृत कुमार (एलोवेरा) का एक छोटा-सा पत्ता, एक चम्मच मुलतानी मिट्टी, एक चम्मच नीबू का रस लें। ऐलोवेरा के पत्ते को बीच में से काटकर एक चम्मच गूदा निकाल लें। इसमें मुलतानी मिट्टी और नीबू का रस मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे चेहरे पर अच्छी तरह से लगाएं। 15-20 मिनट बाद पानी से साफ कर लें। ऐलोवेरा में पाए जाने वाले एंजाइम त्वचा की तैलीयता को अच्छी तरह से साफ कर देते हैं तथा त्वचा की तैलीयता को रोकते भी है। नीबू और मुलतानी मिट्टी त्वचा को संकुचित करते हैं। मुलतानी मिट्टी में पाया जाने वाला हाइड्रेट एल्युमिनियम सिलिकेट त्वचा के लिए एक आवश्यक तत्व है। यह त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाने के साथ-साथ अतिरिक्त तेल को सोख लेता है।

3 – शुष्क त्वचा (Dry Skin Care) – इस प्रकार की त्वचा में तेल तथा नमी की कमी होती है, जिसके कारण त्वचा का रंग सामान्य नहीं रहता है। धोने पर यह खिंची-खिंची रहती है। मौसम का प्रभाव भी इस प्रकार की त्वचा पर अधिक पड़ता है। गर्मी, नमी की कमी तथा ठंड में तेल की कमी हो जाती है। ऐसी त्वचा पर उम्र का प्रभाव भी जल्दी दिखाई देने लगता है।

शुष्क त्वचा की देखभालः -दिन में दो-तीन चेहरे की अच्छी तरह सफाई करें। चेहरा धोने के लिए साबुन की बजाय प्राकृतिक स्त्रोत बेसन या आटे का उपयोग करें।

-त्वचा को सूर्य की अल्ट्रावाॅयलेट किरणों से बचाएं। इसके लिए धूप में निकलते समय छतरी का प्रयोग करें।

-गहरा मेकअप न करे। गहरा मेकअप त्वचा के छिद्रो को बंद कर देता है, जिससे त्वचा से निकलने वाला पसीना ठीक से नहीं निकल पाता है तथा त्वचा को आॅक्सीजन नहीं मिल पाती है।

-त्वचा की ताजगी के लिए सप्ताह में एक बार उबटन अवष्य लगाएं।-विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ ‘डी’ आदि से भरपूर आहार का सेवन करें।

शुष्क त्वचा(Dry Skin) के लिए उपाय (Treatment In Hindi) –

11- एक मुलायम कच्चा भुट्टा लेकर उसके दाने छुड़ा लें। इन्हे अच्छी तरह पीस लें इनमें से छिलके निकालकर चेहरे पर अच्छी तरह लगाएं। 10-15 मिनट बाद ठंडे पानी से छुड़ा लें। भुट्टे में फास्फोरस, विटामिन ‘ए’, कैल्षियम आदि पदार्थ काफी मात्रा में पाए जाते हैं। भुट्टा त्वचा की मृत कोषिकाओं को ठीक तरह से निकाल देता है तथा शुष्क त्वचा को आवष्यक पोषण देकर त्वचा को सुंदर व मुलायम बनाता है। यह प्रयोग सप्ताह में दो बार कर सकते है।

12- एक पका केला लेकर अच्छी तरह मसल लें। इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। धीरे-धीरे नीचे से ऊपर की ओर मालिष करते हुए चेहरे व गर्दन पर लगाएं। 10-15 मिनट बाद मिनरल वाटर से चेहरे को साफ कर लें। केले में विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’, ‘ई’, कैल्षियम, फास्फोरस, काॅपर, आॅयरन आदि तत्व काफी मात्रा में पाए जाते हैं, जो त्वचा को अच्छी तरह साफ करते हैं तथा त्वचा को चिकनाई देकर लचीला व मुलायम बनाते है। शहद में पाए जाने वाले तत्व त्वचा को ऊर्जा प्रदान करते है।

13- एक टमाटर को कद्दूकस कर लें। इसमें एक चम्मच मलाई मिलाएं। इसे अच्छी तरह फेंटकर पूरे चेहरे पर लगाएं। 10-15 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरे को साफ कर लें। टमाटर में विटामिन ‘ए’, ‘सी’, कैल्षियम, फास्फोरस, आॅयरन आदि तत्व पाए जाते है। टमाटर में पाया जाने वाला लाइकोपिन नामक तत्व फ्री-रेडीकल्स को खत्म करता है। मलाई का माॅइष्चराइजर गुण त्वचा को मुलायम व सुंदर बनाता है। यह प्रयोग सप्ताह में दो बार किया जा सकता है।

14- पके हुए बब्बूगोषा का गूदा चार चम्मच, एक अंडे की जर्दी (पीला वाला हिस्सा लें), इसमें आधा चम्मच शहद भली-भांति मिलाकर पूरे चेहरे पर लगाएं। सूखने पर चेहरे को पानी से अच्छी तरह साफ कर लें। अंडे की जर्दी त्वचा की मृत कोषिकाओं को निकालती है तथा त्वचा को पोषण देती है। बब्बूगोषा व शहद शुष्क त्वचा को भरपूर पोषण देकर साफ, सुंदर व मुलायम बनाते हैं।

15- दो चम्मच चुकन्दर का पेस्ट, दो चम्मच सेब का पेस्ट भली-भाँति मिलाकर चेहरे पर लगाएं। 15-20 मिनट बाद इसे पानी से छुड़ा लें। चुकंदर में काफी मात्रा में विटामिन ‘सी’, कैल्षियम, फास्फोरस आदि तत्व काफी मात्रा में पाए जाते हैं। सेब में कैल्षियम, फास्फोरस, विटामिन ‘सी’, पोटेषियम आदि तत्व पाए जाते है। चुकन्दर और सेब में पाए जाने वाले तत्व त्वचा की शुष्कता को दूर करते है।

मिश्रित त्वचा (Combination Skin Care) –  इस प्रकार की त्वचा में तैलीयता और शुष्कता दोनों गुणों का मिश्रण होता है। चेहरे के टी-जोन अर्थात् माथा, नाक, ठोड़ी वाला हिस्सा तैलीय तथा सी-जोन अर्थात् गाल वाला हिस्सा शुष्क होता है।

मिश्रित त्वचा की देखभाल (Combination Skin Care Hindi)

– मिश्रित त्वचा के स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही न करें। -दिन में दो-तीन बार चेहरे की भली-भाँति सफाई करें।

– अधिक गहरा मेकअप न करें।-रात्रि में सोते समय मेकअप अवष्य उतारें।-अधिक तैलीय चीजों का सेवन न करें।

मिश्रित त्वचा के लिए उपाय (Combination Skin Treatment Hindi )

16- एक अंडे को फोड़कर सफेद तथा पीले वाला भाग अलग-अलग कर लें। सफेद वाले हिस्से में एक चम्मच दही, एक चम्मच नीबू का रस मिलाएं। इसे अच्छी तरह फेंट लें।

17- पीले वाले हिस्से (जर्दी) में एक चम्मच दही, एक चम्मच शहद अच्छी तरह मिलाएं। सफेद वाले हिस्से को टी जोन (माथा, नाक, ठोड़ी) पर लगाएं। पीले वाले हिस्से को सी-जोन (गाल) पर लगाएं। चेहरे को 10-15 मिनट बाद ठंडे पानी से धो लें।

18- संवेदनषील त्वचा (सेंसिटिव स्किन)ः इस प्रकार की त्वचा काफी संवेदनषील होती है। त्वचा पर कील, मुंहासे, झांइयां आदि की भरमार होती है। किसी भी चीज से संक्रमण हो जाता है या फिर किसी प्रकार के सौंदर्य प्रसाधन से एलर्जी हो जाती है। इसलिए इसको त्वचा पर किसी भी प्रकार की साम्रगी का इस्तेमाल करने से पहले परीक्षण की आवष्यकता होती है।

संवेदनषील त्वचा की देखभाल (Sensitive Skin Care Hindi)

-दिन-भर में त्वचा की दो-तीन बार अच्छी तरह सफाई करें।

-दिन में दो-तीन बार चेहरे पर ठंडे पानी के छींटें मारें। -दूध या मिनरल वाॅटर से चेहरे को साफ करें।

-त्वचा पर ऐसा कुछ न लगाएं, जिससे किसी प्रकार की एलर्जी हो।

-कील, मुंहासे, दाग-धब्बे, झांइयां आदि को दूर करने के लिए किसी भी प्रकार का फार्मूला प्रयोग करने से पहले परीक्षण अवष्य कर लें। -खान-पान के प्रति विषेष ध्यान दें।

संवेदनषील त्वचा के लिए उपाय (Sensitive Skin Treatment Hindi )

20- संवेदनषील त्वचा पर किसी भी प्रकार का फार्मूला, डाॅक्टर की सलाह के बिना प्रयोग न करें। बिना जांच-परख (टेस्ट) के किसी भी प्रकार का फार्मूला प्रयोग करने से त्वचा पर दुष्प्रभाव पड़ सकता है।