Nightfall (स्वप्नदोष ), Gupt Rog Treatment in Hindi Urdu

shigrapatan,Swapnadosh,Dhatu Rog Ilaj

Sexual Problem Men-Gupt Rog-Dhatu Rog-Shighrapatan(Nightfall)-Swapndosh ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

गुप्त रोग दूर करने के घरेलू नुस्खे

Gharelu Nuskhe for Night Fall ka Gharelu Upay

1.शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए रात को सोने से पहले शीलाजीत और दूध का सेवन करें।
2.शीघ्रपतन को ठीक करने के लिए श्वेत कन्द एक तोला, रिहा के बीज एक तोला, अकरकारा तीन मासे पीसकर रात को शीतल पानी के साथ पिएं शीघ्रपतन जल्दी ठीक हो जाएगा।
3.शीघ्रपतन को ठीक करने के लिए इस्बगोल की भूसी, काहू व कासनी के बीज, धनिया, निलोफर के फूल, भांग के बीज, अनार के फूल, गुलाब के फूल का चरण रात में ठण्डे पानी के साथ लें। ऐसा करने से शीघ्रपतन जल्दी ठीक हो जाएगा।
4. शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए प्याज को अपने दैनिक भोजन में शामिल करें यह शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है।
5.शीघ्रपतन में जल्दी लाभ पाने के लिए समुद्र शोष, गेंदे के बीज, ढाक के बीज, सिरसा के बीज का चूर्ण सुबह-षाम सेवन करने से शीघ्रपतन होना ठीक हो जाएगा।

shigrapatan,Swapnadosh,Dhatu Rog Ilaj

shigrapatan,Swapnadosh,Dhatu Rog Ilaj

6. शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए पीपल की जड़, गिलोय का सत्त, वंषलोचन का चरण गाय के दूध के साथ सुबह-षाम ल,ें शीघ्रपतन होना बन्द हो जाता है।
7.सम्भोग के समय रिलैक्स होके गहरी सांस लेते रहे।
8. शीघ्रपतन में लाभ पाने के लिए तुलसी के बीजों और दो ग्राम जड़ का चूर्ण लेकर पान के साथ खाएं।
9. शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए गिलोय का अर्क और असली वंषलोचन को समभाग मात्रा में पीस लें औरदो ग्राम चूर्ण में शहद मिलाकर सेवन करें।
10. पाँच -छह छुहारे को एक गिलास दूध में उबाल लें फिर उसे ठंडा करके खाएं इससे वीर्य गाढ़ा हो जाता है।
11. शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए रात में सोते समय एक गिलास दूध पीने से भी आराम मिलता है।
12.शीघ्रपतन को बन्द करने के लिए आंवले के रस को शहद के साथ चाटने से भी शीघ्रपतन ठीक हो जाता है।
13.शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए प्याज को काटकर उसमें नमक मिलाकर दोपहर के भोजन के बाद लें।
14. शीघ्रपतन में आराम पाने के लिए इमली के बीजों की गिरी को कूट लें और इसमें पुराना गुड़ मिलाकर गोलियाँ बना लें और सुबह-षाम इसका सेवन करें।
15. ताजे फलों, साग-सब्जियों, दाल तथा दूध को अपने आहार में शामिल करें।
16. गुप्त रोग को दूर करने के लिए उड़द के आटे को घी में भूनकर उसमें थोड़ी मात्रा में मिश्री मिलाके हलवा बनाकर सुबह-षाम खाएं।
17. गुप्त रोग से छुटकारा पाने के लिए काले छुहारे की खीर बनाकर सुबह-षाम खाने से शीघ्रपतन में जल्दी आराम आता है।

 

स्वपनदोष दूर करने के घरेलू नुस्खे

Swapndosh ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

  1. स्वपनदोष निवारण के लिए त्रिफला चूर्ण पाँच ग्राम, गेरू और पाँच ग्राम पिसी हल्दी और पचास ग्राम पिसी फिटकरी इन सबको मिलाकर रख लें, इसे आध चम्मच लें और थोड़ी सी इसमें चीनी मिलाकर सुबह-षाम लेने से जल्दी आराम मिलता है।
    2.रोज एक्सरसाइज करें जिससे मसलस मजबूत होंगे।
    3. स्वपनदोष रोग में आराम पाने के लिए बीस ग्राम गिलोय को एक गिलास पानी में डालकर उबालें और एक चैथाई जब बचे तो इसे ठण्डा करके एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर पियें।
    4.  स्वपनदोष निवारण के लिए एक चम्मच त्रिफला चूर्ण शहद में मिलाकर चाटने से स्वपनदोष ठीक हो जाता है।
    5. बबूल का गोंद, बबूल की फली, बबूल की कोपलें इनको अच्छी तरह मिलाकर पीस लें
    इस मिश्रण का एक चम्मच सुबह-षाम दूध के साथ सेवन करें।
    6.स्वपनदोष खत्म करने के लिए बरगद के दूध दो-तीन बताषे और अष्वगंधा का चूर्ण मिलायें और दूध के साथ सेवन करें।
    7. स्वपनदोष निवारण के लिए तीन-चार कली लहसुन की पीसकर और एक चम्मच शहद मिलाकर दूध के साथ सेवन करें।
    8.स्वपनदोष से छुटकारा पाने के लिए तीन-चार नीम की पत्ती, पाँच ग्राम गिलोय और बबूल की पत्ती को पीस कर पानी के साथ लें।
    9.स्वपनदोष दूर करने के लिए गिलोय,सूखे आँवले, नीम का रस और गोखरू पीसकर चूर्ण बना लें और आधा चम्मच घी के साथ सेवन करें।
    10.चार-पाँच नीम की पत्तियों को चबाकर खाने से भी स्वपनदोष नही होगा।
    11.बीस ग्राम अनार का छिलका और मुलहठी का चूर्ण बना लें और सुबह-षाम शहद के साथ सेवन करें।
    12. दस ग्राम भांग भस्म और पचास ग्राम इसबगोल की भूसी में थोड़ी सी मिश्री मिलाकर इसे सोते समय गुनगुने दूध के साथ लें।13.स्वपनदोष निवारण के लिए पचास ग्राम त्रिफला चूर्ण, पाँच ग्राम कपूर, पाँच ग्राम गुड़ इनको मिलाकर छोटी-छोटी गोलियाँ बना लें और सुबह-षाम दूध से लें।

धातु रोग दूर करने के घरेलू नुस्खे

Dhatu Rog ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

1.धातु रोग में पिस्ता, बादाम, खजूर और श्रीफल के बीजों को बराबर मात्रा में लेकर मिक्सचर बनाकर इसको रोज सौ ग्राम खाएं।
2. धातु रोग में आराम पाने के लिए पके केले को मिश्री से लगाकर खाएं।
3. धातु रोग में आराम पाने के लिए मुलहठी के चूर्ण को गाय के दूध के साथ लें।
4. धातु रोग से छुटकारा पाने के लिए गुलाब के फूल, गिलोय, धनिया, चन्दन को पीसकर लें।
5.पन्द्रह-सोलह ग्राम सहजन के फूलों को दो सौ ग्राम दूध में उबलने के बाद पिएं।
6.लिंग की कमजोरी और नपुंसकता को कम करने के लिए एक चम्मच प्याज के रस में, एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह-षाम लें।
7. गुलाब के फूल, सौंफ, चन्दन की ठन्डाई बनाकर पिएं।
8.दो ग्राम हरड़, दो ग्राम आँवला को पीसकर छान लें और इसमें मिश्री मिलाकर पानी के साथ लें।
9.धातु रोग से छुटकारा पाने के लिए इलायची, मुलहठी, हल्दी को मिलाकर पीस लें और मलाई के साथ सुबह-षाम सेवन करें।
10.इमली और बबूल को पानी में बारह घंटे के लिए भिगो दें और फिर इसे निकालकर पीस लें और इसे मिश्री में मिलाकर चाटने से  धातु रोग ठीक हो जाता है।
11.तीस-चालीस ग्राम किषमिष को गर्म पानी में धोकर, दौ सौ ग्राम दूध में उबालकर खाएं।

Gupt rog door karne ke gharelu nushke

Gupt Rog ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

  1. Shigrapatan mein aaram paane ke liye raat ko sone se pehle shilajeet aur doodh ka sevan karen.
    2.Shigrapatan ko theek karne ke liye swet kand 1 tola, riha ke beez 1 tola, akarkara 3 maashe peeskar, raat ko sheetal paani ke sath piyen. shigrapatan jaldi theek ho jayega.
    3. Shigrapatan ko theek karne ke liye ishabgoal ki bhushi, kaahu or kaasni ke beez, dhaniya, nilofar ke fool, bhang ke beez, anar ke fool, gulab ke fool ka charan raat mein thande pani ke sath le. aisha karne se shigrapatan jaldi theek ho jayega.
    4.Shigrapatan mein aaram paane ke liye pyaaz ko apne dainik bhojan mein saamil karen yeh sareer ke liye bahut faaydemand hai.
    5.Shigrapatan mein jaldi labh paane ke liye samudra shosh, gende ke beez, dhaak ke beez, sirsha ke beez ka churn subah-saam sevan karne se shigrapatan hona theek ho jayega.
    6.Gupt rog ko door karne ke liye urad ke aaten ko ghee mein bhoonkar usme thodi matra mein mishri milake halwa bana kar subah-saam khayen.
    7.Gupt rog se chutkara paane ke liye kaale chuhare ki kheer bana kar subah-saam khane se shigrapatan me jaldi aaram aata hai.
    8.Shigrapatan mein aaram paane ke liye peepal ki jad, giloy ka satt, vanshlochan ka charan gai ke doodh ke sath subah-saam le shigrapatan hona band ho jata hai.
    9.Sambhog ke samay relax hoke gehri saans lete rahen.
    10.Shigrapatan mein labh paane ke liye tulsi ke beezon or 2 gramjad ka churn lekar paan ke sath khayen.
    11.Shigrapatan mein aaram paane ke liye giloy ka ark or asli vanshlochan ko sambhag matra mein pess le or 2 gram churn me sehed milakar sevan kare.
    12.  5-6 chuhare ko 1 gilass doodh mein ubal le phir use thanda karke khayen isse virya gadha ho jata hai.
    13.Shigrapatan mein aaram paane ke liye raat mein  sote samay 1 gilass doodh peene se bhi aaram milta hai.
    14. Shigrapatan ko band karne ke liye avalen ke rass ko sehed ke sath chatne se bhi shigrapatan theek ho jata hai.
    15. Shigrapatan mein aaram paane ke liye pyaz ko kaatkar usme
    namak milakar dopehar ke bhojan ke baad le.
    16.Shigrapatan mein aaram paane ke liye imali ke beejon ki giri ko koot le aur isme purana gud milakar goliyan bana le aur subah-saamiska sevan kare.
    17.Taaze falon, shag-sabjiyoun, daal or doodh ko apne aahar mein shamil karen.

Swapndosh ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

1.Swapndosh niwarn ke liye trifala churn 5 gram, geru or 5 gram pessi haldi aur 50 gram pessi fitkari in sabko milakar rakh le. ise aadha chammach le aur thodi si ishme chini milakar subah-saam lene se jaldi aaram milta hai.
2.Roj exercise karen jisse masuls majboot honge.
3.10 gram bhang bhasm aur 50 gram ishabgoal ki bhusi me thodi si mihri milakar ise sote samay gungune doodh ke sath le.
4.Swapndosh niwarn ke liye 50 gram trifala churn, 5 gram kapoor, 5 gram gud inko milakar choti-choti goliyan bana le aur subah-saam doodh se le.
5.Swapndosh rog mein aaram paane ke liye 20 gram giloy ko 1 gilass pani mein dalkar ubalen aur 1 chauthai jab bache to ise thanda karke 1 chammach sehed ke sath milakar piyen.
6.Swapndosh niwarn ke liye 1 chammach trifala churn sehed me milakar chatne se swapndosh theek ho jata hai.
7.Babool ki goand, babool ki fali, babool ki koaple inko aachi tarah milakar pess le. is misharad ka 1 chammach subah-saam doodh ke sath sevan karen.
8.Swapndosh khatam karne ke liye bargad ke doodh mein 2-3 batase aur aswagandha ka churn milayen aur ise doodh ke sath sevan karen.
9.Swapndosh niwarn ke liye 3-4 kali lehsun ki pesskar aur 1 chamach sehed milakar doodh ke sath sevan karen.
10.Swapndosh se chutkara paane ke liye 3-4 neem ki patti, 5 gram giloy aur babool ki patti ko pesskar pani ke sath le.
11. Swapndosh door karne ke liye giloy, sukhe avale, neem ka rass or gokhru pesskar churn bana le aur ½ chammach ghee ke sath sevan kare.
12.4-5 neem ki pattiyoun ko chabakar khane se bhi swapndosh nahi hoga.
13.20 gram anaar ka chilka aur mulhatti ka churn bana le aur subah-saam sehed ke sath sevan karen.

Dhatu Rog ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

1.Gulab ke fool, saunf, chandan ki thandai banakar piyen.
2. gram haran, 2 gram avala ko pesskar chaan le aur ishme mishri milakar paani ke sath le.
3.Dhatu rog se chutkara paane ke liye ilaychi, mulhati, haldi ko milakar pess le aur malai ke sath subah-saam ishka sevan karen.
4.  Imali aur babool ko paani mein 12 ghante ke liye bhigon de aur phir ise nikalkar pess le aur ishe mishri mein milakar chatne se dhatu rog theek ho jata hai.
5.30-40 gram kismis ko garam pani mein dhokar, 200 ml doodh mein ubaal kar khayen.
6.Dhatu rog mein pishta, badam, khazur aur shreefal ke beejon ko barabar matra mein lekar mixture banakar ishko roj 100 gram khayen.
7.Dhatu rog mein aaram paane ke liye pake kele ko mishri se lagakar khayen.
8.Dhatu rog mein aaram paane ke liye mulhatti ke churn ko gai ke doodh ke sath le.
9.Dhatu rog se chutkara paane ke liye gulab ke fool, giloy, dhaniya, chandan ko pesskar le.
10.15-16 gram sehjan ke foolon ko 250ml doodh mein ubalne ke baad piyen.
11.Ling ki kamjori aur napunsakta ko door karne ke liye 1 chammach pyaz ke rass mein 1 chammach sehed milakar subah-saam le.