Hydrocele Treatment Hindi

हाइड्रोसील-अंडकोष वृद्धि के लक्षण, कारण और बचने के 24 घरेलू उपचार

Hydrocele ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

हाइड्रोसील

हाइड्रोसिल-hydrocele पुरूषों का रोग है जिसमें इनके एक या दोनों अंडकोषों में पानी भर जाता है।

इस रोग में अंडकोष एक थैली की भाँति फूल जाते है और गुब्बारे की तरह प्रतीत होते है। इस

अवस्था को प्रोसेसस वजायनेलिस या पेसेन्ट प्रोसेसस वजायनेलिस भी कहा जाता है। ये स्थिति पुरूषों

के लिए बहुत पीड़ादायी होती है। अंडकोष में अधिक पानी भर जाने के कारण इन्हे वहाँ सूजन भी हो

जाती है। वैसे तो ये किसी को भी हो सकता है। किन्तु अक्सर ये रोग 40 से अधिक उर्म के पुरूषों में

ही देखा है, इसका उपचार करने के लिए जरूरी है कि इस पानी को बाहर निकाला जाए।

Hydrocele Treatment Hindi

Hydrocele Treatment Hindi

Hydrocele  Ke Causes

हाइड्रोसील के कारण Hydrocele kaise hota hai

यौन अंगों में दूषित मल के इकट्ठा हो जाने के कारण होता है अंडकोषों में चोट लग जाने से या नसों में

दबाव होने पर भी ये हो सकता है, गलत खान पान या कब्ज के कारण भी ये हो सकता है। कई बार

पुरूष सम्भोग के समय वीर्य को स्खलित होने से या पेषाब को अधिक देर तक रोक लेते है, या अधिक

यौन क्रिया करने से भी ये रोग हो सकता है, यदि कोई पुरूष बिना लंगोट के अधिक वजन उठाता है

तो भी ये समस्या हो सकती है।hydrocele

1    स्वास्थ्य समस्याएं

2    गलत खाने-पीने के कारण

3    अनुवांषिक

Hydrocele symptoms in hindi

हाइड्रोसील के लक्षण

1    अंडकोष में तेज दर्द

2    अंडकोष के आगे का भाग सूजना

3    ज्ञानेन्द्रियों की नसों का ढीला और कमजोर पड़ना

4    उल्टी, दस्त और कब्ज होना

5    अंडकोषों का फूलना

6    सूजन बढ़ने से रोगी को चलने फिरने में भी परेषानी हो सकती है

Hydrocele Ayurvedic Nuskhe|Treatment|Gharelu Upay|Desi Ilaj|Rogupchar|

हाइड्रोसील के लिए घरेलू उपाय

1 आम के पेड़ की गांठ को पीस लें फिर इसे गाय के मूत्र में मिलाकर लेप करें। हाइड्रोसील ठीक हो जाता है।

2 Hydrocele hindi -15 ग्राम काले तिल और 15 ग्राम अरंड के बीजों को पीसकर अंडकोष पर लगाने से सूजन कम हो जाती है।

3 इन्द्रायण की जड़ को कूटकर पीस लें और अरंड के तेल में मिलाकर अंडकोष पर लगाने से सूजन ठीक हो जाती है।

4 तम्बाकू के पत्तों को हल्का गरम करें और इसमें तिल का तेल लगाकर अंडकोष पर लगायें इससे जल्दी लाभ होगा।

5 Hydrocele se bachne ke upay – आम के कोमल पत्तों को सम मात्रा में लें और इसे पीस लें ‘

और इसमें 10 ग्राम मात्रा में सेंधा नमक मिलाकर हल्का गर्म करके अंडकोष पर लगायें।[adToAppearHere]

6  इन्द्रायण की जड़ को और पुष्करमूल को पीस लें और गाय के दूध के साथ सेवन करें।

7  10 ग्राम कूचर के चूर्ण को जल में मिलाकर लेप करेंइस लेप को हल्का गर्म करके अंडकोष पर लगायें।

8  Hydrocele ka gharelu ilaj – बैगन की जड़ को जल में मिलाकर पीस लें इसका लेप अंडकोष पर लगाने

सेहाइड्रोसील ठीक हो जाता है।

9  यदि बच्चे का अंडकोष बड़ा हुआ हो तो अरहर की दाल भिगोकर उसी पानी में पीसकर हल्का गर्म लेप करें।

10 रोगी को नित्य अनार और संतरे का जूस पीना चाहिए।

Hydrocele ke gharelu nuskhe

11 Hydrocele se bachne ke upay – 5 ग्राम काली का चूर्ण और 10 ग्राम जीरे का चूर्ण बनाकर गर्म पानी में इसका पेस्ट

मिलाकर इसका पेस्ट बना लीजिए और रात को सोते समय इसको बढे हुए अंडकोष में लगाएं।hydrosil hindi

12 समभाग मात्रा में आम के पत्ते ले और उसमें 10 ग्राम सेंधा नमक डालें

दोनों को अच्छे से पीसकर हल्का सा गर्म करके अंडकोष पर लेप करें।hydrocele

Sex Power Badhane Ke Desi Ilaj

Night Fall Rokhne Gharelu Nuskhe

13  गर्म और ठंडे पानी से सेंक करने से अंडकोष में वृद्धि सही होती है।

14  नित्य 15-20 किषमिष का सेवन करना चाहिए।

15  Hydrocele pain in hindi – 20 ग्राम माजूफल और 5 ग्राम फिटकरी को पीसकर उनका लेप तैयार

करके अंडकोष पर लगाएं।hidrosel ka ilaj

16  Hydrocele ka ayurvedic dawa – 5 ग्राम काली मिर्च और 10 ग्राम जीरा लें और उन्हे अच्छी तरह पीस लें, इसमें थोड़ी

मात्रा में सरसों या जैतून का तेल मिलाएं, इसके बाद इसमें गर्म पानी मिलाकर इसका घोल

बनाएं और सुबह-षाम इसे अंडकोष पर लगाएं।hydrocele

17    Hydrocele treatment without surgery in hindi – इस रोग से पीड़ित रोगी को खुली हवा में व्यायाम करना

चाहिए तथा इसके साथ सूर्य स्नान भी करना चाहिए। इस प्रकार से रोगी का इलाज प्राकृतिक चिकित्सा से

करने से रोग बहुत जल्दी ही ठीक हो जाता है।

18  रोग व्यक्ति को नमक मिले पानी से स्नान करना चाहिए, इससे यह रोग जल्दी ही ठीक हो जाता है।

19  Hydrocele natural treatment in hindi – करंज की मींग को अरंड के तेल में घोट लें और उसे तम्बाकू

के पत्तों पर लपेटकर अंडकोष पर लगाएं।hydrocele

Hydrocele ke upchar

20  हरड़, बहेड़ा, आंवला, एरंड की जड़ इन सभी को 10 ग्राम की मात्रा में ले इन सभी को पीस लें और अंडकोष पर लगाएं।

21  पलाष की छाल का चूर्ण बनाकर जल के साथ सेवन करें।

22  अंगूर के पत्तों को हल्का गर्म करके अंडकोष पर लगाएं।

23  छोटी अरनी के पत्तों को पीसकर हल्का सा गर्म करके अंडकोष पर बांधें।

24  10 ग्राम भिलावे के पत्ते, 5 ग्राम हल्दी को पीस लें उसमें हल्का सा गर्म जल मिलाकर अंडकोष पर लेप करें।

 Tankan Bhasma for growth of testicles and itching in hindi

25 अंडकोष में सूजन हो जाए या अतिशय बढ़ गये है तो यह कम करने के लिए सुहागा 10 ग्राम तवे पर सेक दे और 100 ग्राम गुड़ में मिलाए घी के साथ और हर रोज सवेरे खाए।एक हफ्ते तक हर रोज सवेरे ये मिश्रण सेवन करे।

26- अगर अंडकोष में खुजली होती है तो बोरेक्स के फायदे उठाए। 100 ml पानी में 10 ग्राम बोरेक्स मिलाए और अंडकोष को दिन में 3 बार धोए इस पानी से। ऐसा करने से खुजली बिल्कुल मिट जाएगी।

27- बोरेक्स अंडकोष वृद्धि और खुजली का इलाज करता है ध्यान रहे ढीले कपड़े पहने

Hydrocele ka Gharelu Upay Upchar Nuskhe RogUpchar

Hydrocele purushon ka rog hai. jisme inke ek ya dono andkoshon mein pani

bhar jata hai. is rog mein andkosh ek thaily ki bhanti fool jate hai aur gubbare

ki tarah pratit hote hai, is awastha ko process vajaynelis ya patent process vajaynelis

bhi kaha jata hai. ye estithi purushon ke liye bahut peedadai hoti hai. andkosh mein

adhik pani bhar jane ke karan inhe vahan sujan bhi ho jati hai. vaise to ye kisi ko bhi

ho sakta hai. kintu aksar ye rog 40 se adhik umar ke purushon mein hi dekha jata hai.

iska upchar karne ke liye jaruri hai ki is pani ko bahar nikala jaye.

Hydrocele  Ke Causes

Hydrocele Ke Karan

Yaun angon mein dooshit mal ke ekkatta ho jane ke karad hota hai. andkoshon mein

chot lag jane se ya nashon mein dabav hone per bhi ye ho sakta hai, galat khan-paan

ya kabz ke karad bhi ye ho sakta hai. kai baar purush sambhog ke samay veery ko

eskhalit hone se ya peshab ko adhik der tak roak lete hai, ya adhik yaun kirya karne

se bhi ye rog ho sakta hai. yadi koi purush bina langoat ke adhik vajan uttata hai to

bhi ye samasya ho sakti hai.

1       swasthya samasyayen

2       galat khane-peene ke karad

3       Anuvanshik

Hydrocele ke Symptoms

Hydrocele ke lachan- Hydrocele ke lakshan

1       Andkoshon mein tej dard

2       andkosh ke aage ka bhag sujna

3       gyanendriyoun ki nashon ka dheela aur kamjour padna

4       ulti, dast aur kabz hona

5       Andkoshon ka foolna (andkosh ka size)

6       Sujan badne se rogi ko chalne firne mein bhi pareshani ho sakti hai.

Hydrocele Ayurvedic Nuskhe|Treatment|Gharelu Upay|Desi Ilaj|Rogupchar|

1       Hydrocele ki dawa – Aam ke ped ki ganth ko pess le phi rise gai ke mootra

mein milakar lep karen. hydrocele theek ho jata hai.

2       Hydrocele ka gharelu ilaj in hindi – 15 gram kale til aur 15 gram erand ke beajon

ko pesskar andkosh per lagane se sujan kam ho jati hai.

3       Indrayan ki jad ko kuttkar pess le aur errand ke tail mein milakar andkosh

per lagane se sujan theek ho jati hai.

4       Hydrocele disease in hindi – Tambaku ke patton ko halka garam karen aur

isme til ka tail lagakar andkosh per lagayen isse jaldi labh hoga.

5       Aam ke komal patton ko sum matra mein le aur ise pess le aur isme 10 gram

matra mein sendha namak milakar halka garam karke andkosh per lagayen.

6       Indrayan ki jad ko aur pushkarmool ko pess le aur gai ke doodh ke sath sevan karen.

7       10 gram kuchar ke churn ko jal mein milakar lep karen is lep ko halka

garam karke andkosh per lagayen.

8       baigan ki jad ko jal mein milakar pess le iska lep andkosh per lagane se

hydrocil theek ho jata hai.

9       Hydrocele ka dawa-  Yadi bacche ka andkosh bada hua ho to arhar ki

daal bhigokar usi pani mein pesskar halka garam karke lep karen.

10     Rogi ko nitya anar aur santre ka juice peena chahiye.

11     Hydrocele treatment without operation in hindi – 5 gram kali mirch ka

churn aur 10 gram jeere ka churn bana kar garam pani milakar iska paste bana

lijiye aur raat ko sote samay isko bade hue andkosh mein lagayen.

12     Hydrocele treatment in hindi – Sambhag matra mein aam ke patte le aur

usme 10 gram sendha namak dalen dono ko ache se pesskar halka sa garam karke andkosh per lep karen.

13     Garam aur thande pani se seank karne se andkosh mein vridhi sahi hoti hai.

Hydrocele ka upchar

14     Nitya 15 – 20 kismiss ka sevan karna  cahiye.

15     Hydrocele in hindi – 20 gram majufal aur 5 gram fitkari ko pesskar unka

lep taiyaar karke andkoshon per lagayen.

16     Hydrocele ka ilaj – 5 gram kali mirch aur 10 gram jeera le aur unhe achi

tarah pess le. ishme thodi matra mein sarshon ya jaitoon ka tail milayen.

iske baad isme garam pani milakar iska ghoal banayen aur subah-saam ise andkosh per lagayen.

17     Is rog se peadit rogi ko khuli hawa mein vyayaam karna chahiye tatha

iske sath surya esnan bhi karna chahiye. is prakar se rogi ka ilaj prakartik

chikitsah se karne se rog bahut jaldi hi theek ho jata hai.

18     Rog vyakti ko namak mile pani se esnan karna chahiye. isse yeh rog

jaldi hi theek ho jata hai.

19     karanj ki meeng ko erand ke tail mein ghont le aur use tambaku ke

patton per lapetkar andkosh per lagayen.

20    Hydrocele ka ilaj in hindi –  haran, baheda, aavla, erand ki jad in sabhi

ko 10 gram ki matra mein le in sabhi ko pess le aur andkosh per lagayen.

21     palash ki chaal ka churn banakar jal ke sath sevan karen.

22     Angoor ke patton ko halka garam karke andkosh per lagayen.

23     Choti arni ke patton ko pesskar halka sa garam karke andkosh per bandhe.

24     Hydrocele treatment in ayurveda in hindi – 10 gram bhilawe ke patte,

5 gram haldi ko pess le usme halka sa garam jal milakar andkosh per lep karen.

जाने ब्लड प्रेशर कैसे कण्ट्रोल करे

डायबिटीज कण्ट्रोल करने के उपचार