Hair Fall Problem Treatment In Hindi

Hair Fall Solution In Ayurveda in hindi,

Hair Fall बालों का झड़ना Treatment Hindi – सुंदर व आकर्षक व्यक्तित्व के लिए स्वस्थ व सुंदर शरीर के साथ-साथ बालों का सुंदर होना भी जरूरी है। बालों का संबंध यौनाकर्षण से भी है। पुरूष सुंदर, काले, घने व लंबे बालों वाली स्त्री को अधिक पसंद करते हैं। इसलिए स्त्री को अपने बालों के प्रति विशेष ध्यान देना चाहिए। बालों के प्रति लापरवाह होने से बालों का आकर्षण खत्म हो जाता है और बाल गिरने लगते हैं। बालों का उगना और गिरना प्राकृतिक क्रिया है। प्रतिदिन गिरने वाले बालों के स्थान पर नए बाल निकलते रहते हैं। रोजाना 20-30 बाल गिरना स्वाभाविक है। यदि इनसे अधिक बाल गिर रहे हैं, तो बालों की सुरक्षा के प्रति विशेष ध्यान देना जरूरी है।

Balo Ke Girne (Hair Fall ) Ke Karan – बालों के गिरने के कारण

अस्वच्छता, आनुवंशिकता, डेंड्रफ कुपोषण, डायटिंग, मानसिक तनाव, लंबी बीमारी, हारमोंस का असंतुलन, तेज शैम्पू, धटिया साबुन, डाई का इस्तेमाल, वातावरण, गलत प्रक्रिया, अनियमित दिनचर्या, बालों की जड़ों में फंगस या बैक्टीरिया का संक्रमण, अनिद्रा, नींद की गोलियों का सेवन करना, बालों में तेल न लगाना या तेज खुशबूदार तेल का इस्तेमाल करना, अधिक दिनों तक गर्भ-निरोधक गोलियों का सेवन करना, रजोनिवृत्ति आदि कारणों से बाल गिरने लगते हैं। गर्भावथा में शरीर में प्रोजेस्टेटान नामक हार्मोन की वृद्धि हो जाने से इसका सीधा प्रभाव बालों पर पड़ता है, इसकी वजह से भी किसी-किसी महिला के बाल गिरने लगते हैं।

Hair Fall Solution In Ayurveda in hindi,

hair loss solution in patanjali,

Balo Ke Jhadne (Hair Fall) में इन बातों का ध्यान रखें

1- बाल गिर रहे हैं, तो बालों में ब्लीच, गर्म, डाई, सेटिंग आदि न करवाएं। बालों को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर का इस्तेमाल न करें।

2- दिन भर में कई बार कंघी करें। कंघी करने से सिर की त्वचा में रक्त संचार बढ़ता है, जिससे बालों को पोषकता मिलती है और बाल मजबूत होते हैं।

3- बालों को धोने के लिए ठंडे पानी का प्रयोग करें। अधिक गर्म पानी, बालों की जड़ों को नुकसान पहुंचाता है।

4- नहाने के बाद बालों को कपड़े से जोर-जोर से रगड़कर न सुखाएं। मुलायम रोएंदार टावेल को हल्के हाथों से बालों पर फेरकर बालों को सुखाएं।

5- तेज धूप में खड़े होकर बालों को न सुखाएं। तेज धूप बालों की प्राकृतिक प्रक्रिया को हानि पहुंचाती है, जिससे बालों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं और बाल गिरने लगते हैं। बालों को स्वाभाविक रूप से सूखने दें।

6- गीले बालों में कंघी न करें, इससे बाल अधिक गिरने लगते हैं। बालों को संवारने के लिए गोल मुंह वाले, चैडे़ दांतों वाले कंघे या बु्रश का इस्तेमाल करें।

7- बालों की नियमित मालिश करें। बालों की मालिश के लिए अपनी उंगलियों से बालों की जड़ों की मालिश करें। सिर को थपथपाएं तथा अपनी उंगलियों में बालों को फंसाकर खींचें। ऐसा करने से सिर की त्वचा में रक्त संचार तेजी से होने लगेगा, जिससे बालों को पोषकता व मजबूती मिलेगी।

8- बालों की सुरक्षा के लिए पौष्टिक आहार का सेवन करें। अपने आहार में हरी सब्जी, ताजे फल, सूखे मेवे, दूध, पनीर, अंकुरित अन्न, विटामिन ‘ए’, ‘बी-काम्पलेक्स’, ‘सी’, ‘डी’, प्रोटीन, आयरन आदि से भरपूर खाद्य पदार्थो को शामिल करें।
ंबालों की सिंकाई

9- सप्ताह में एक बार गर्म-ठंडे पानी से बालों की सिंकाई करें। इसके लिए पहले गर्म पानी में टावेल को भिगोकर अच्छी तरह से इसके निचोड़ लें और इसे सिर पर अच्छी तरह से लपेट लें। इसे सिर पर दो मिनट तक रखें। इसके बाद टावेल को ठंडे पानी में डुबोकर निचोड़ लें और इसे सिर पर दो मिनट तक लपेटकर रखें। यह क्रिया पांच से दस बार करें। इससे बालों को मजबूती मिलती है और बालों का झड़ना बंद होता है।

10- दो चम्मच निंबोली (नीम के बीज) का पेस्ट लेकर बालों की जड़ों में अच्छी प्रकार से लगाएं। एक घंटे बाद बालों को अच्छी तरह से धो लें। निंबोली में पाए जाने वाले तत्व निंबिन, निंबिडिन, निंबो-स्टेरोल (उड़नशील तेल) आदि सिर की त्वचा पर जमी मृत कोशिकाओं को अच्छी तरह से साफ कर देते हैं, जिससे बालों को पर्याप्त मात्रा में आॅक्सीजन मिलने लगती है। निंबोली के तत्व सिर की त्वचा पर प्रभाव डालकर रक्त संचार भी तेजी से करते हैं, जिसे बालों को पोषण मिलता है। बाल सुंदर व मजबूत होते हैं और बालों का गिरना भी बंद होता है।

11- बाल अधिक गिरने पर पंद्रह दिन में एक बार एक अंडे की जर्दी (पीला वाला हिस्सा) को 5-6 चम्मच पानी में डालकर भली-भांति फेंट लें। इसे हल्के हाथों से बालों की जड़ों में अच्छी तरह से लगाएं व उंगलियों के पोर से हल्की-हल्की मालिश करें। पंद्रह मिनट बाद बालों को ठंडे पानी से धो लें। अंडे में विटामिन ‘ए’, ‘बी’, फास्फोरस, आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, सेलेनियम आदि तत्व काफी मात्रा में पाए जाते हैं, जो बालों को पोषण प्रदान करते हैं। ये तत्व बालों को झड़ने से रोकते हैं तथा उन्हें सुंदर व मुलायम भी बनाते हैं।

12- आधा कप गाजर का रस बालों की जड़ों में अच्छी तरह से लगाएं। आधे घंटे बाद बालों को धो लें। गाजर में कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन ‘ए’ आदि तत्व काफी मात्रा में पाए जाते हैं, जो बालों को पोषण देते हैं। गाजर में पाए जाने वाला बीटा कैरेटोन बालों को मजबूती प्रदान करता है, जिससे बाल गिरने बंद हो जाते हैं। यह प्रयोग नियमित करने से निश्चित लाभ दिखाई देता है।

13- हरे धनिये के पत्तों का रस चार चम्मच लें। इसे बालों की जड़ों में हल्के हाथों से लगाएं। एक घंटे बाद बालों को धो लें। हरे धनिये में काफी मात्रा में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ आदि तत्त्व मिलते हैं, जो बालों की जड़ों को पोषण देकर बालों को मजबूती प्रदान करते हैं, जिससे बालों का गिरना बंद हो जाता है।

14- एक पाव चैलाई के पत्तों को दो लीटर पानी में अच्छी तरह से उबाल लें। इसे छानकर ठंडा कर लें। इस पानी से बालों को भली-भांति साफ करें। चैलाई में काफी मात्रा में कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ आदि तत्त्व पाए जाते हैं, जो बालों को सही पोषण देते हैं। सप्ताह में एक बार यह प्रयोग करने से बालों का गिरना बंद हो सकता है।

15- सौ ग्राम आलू, सौ ग्राम फूल गोभी, सौ ग्राम शलगम, तीनों को तीन लीटर पानी में उबाल लें। इस पानी को ठंडा होने पर, छानकर बालों की जड़ों में लगाएं। आलू में काफी मात्रा में आॅयरन, कैल्शियम, फास्फोरस, आयोडीन आदि तत्त्व तथा शलगम में काफी मात्रा में प्रोटीन कैल्शियम, फास्फोरस, आॅयरन, विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ आदि तत्त्व पाए जाते है, जो बालों को पोषण देकर उन्हें मजबूती प्रदान करते हैं, जिससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है।

17- एक पाव बथुआ, तीन लीटर पानी में अच्छी प्रकार से उबाल लें। पानी ठंडा होने पर बथुए को मलकर छान लें। इस पानी को बालों की जड़ों में लगाएं। बथुए में काफी मात्रा में कैल्शियम, फास्फोरस, आॅयरन, विटामिन ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ आदि तत्त्व पाए जाते है, जो बालों को सही पोषण देकर उन्हें मजबूत बनाते हैं, जिससे बालों का गिरना रोकतें है। इस पानी से बालों को धोने से बाल सुंदर, काले व चमकदार बनते हैं।