Dast Loose Motion |दस्त रोकने 23 अचूक इलाज
Dast Ka Desi Ilaj
Dast दस्त Loose Motion  रोकने Rokane के उपाय  Upay 1-एक गिलास गर्म पानी में आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पिएं। 2-अनार के जूस का सेवन करना चाहिए यह दस्त को लम्बे समय तक होने से रोकता है। (Stomach Pain-Pet Dard) 3-ज्यादा दस्त आने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है इसलिए पानी ज्यादा से ज्यादा पीना चाहिए। 4-दही में केला मिलाकर खाएं इससे दस्त में आराम मिलता है। 5-दस्त होने पर बिना दूध वाली काली चाय पिएं। [caption...

Read More

Mouth Ulcer – Muh Ke Chale 23 Gharelu Nuskhe
Mouth Ulcer 23 Home Remedies
Mouth Ulcer मुंह के छाले Muh Ke Chale Thik Karne Gharelu Nuskhe - 1- मुलहठी की जड़ के पाउडर से दिन में दो-तीन बार कुल्ला करें इसे मुंह के छालों में लगाने से आराम मिलता है। यह काफी फायदेमंद होता है। 2-एक चम्मच नारियल के दूध में आधा चम्मच शहद मिलाकर छालों पर लगाने से काफी आराम मिलता है। 3-एक चम्मच धनिया के बीजों को एक कप पानी में डालकर उबालें और इस पानी से दो-तीन बार कुल्ला करें इससे...

Read More

Stomach Pain treatment- Pet Dard Ke Ashan 38 Ilaj
Stomach Treatment Hindi
Stomach Pain Treatment hindi -  पेट-दर्द- Pet Dard Desi Ilaj- पेट में प्रायः दर्द होता रहता है। पेट में दर्द होने के अनेक कारण होते हैं। सामान्यतया पेट में दर्द भोजन न पचने से होता है। पेट में किसी भी प्रकार का दर्द हो, बोतल में गर्म पानी भरकर सेंकने से आराम मिलता है। जब तक पेट-दर्द अच्छी तरह शान्त न हो जाये तब तक खाने को कुछ नहीं देना चाहिए। सोडावाटर पीना अच्छा है। चिकित्सा कारण और दर्द के निदान...

Read More

Aant (Colon) Ka Cancer Treatment Hindi
Aant Ka Cancer Treatment
Aant Ka Cancer (Colon cancer) आँतों का कैंसर -  पाचन तंत्र का सबसे निचला भाग कोलन होता है। इसे बड़ी आँत (Badi Aant) भी कहते है। यह आँत का आखिरी 5 या 6 फुट भाग होता है और कोलन का आखिरी 8-10 इंच रेक्टम होता है। भोजन के पचने के बाद, ठोस मल इनसे होते हुए शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है।  छोटी आँत का कैंसर बहुत कम होता है। जबकि बड़ी आँत या कोलन में कैंसर की बहुत...

Read More

Stomach Cancer Treatment In Hindi
Stomach Cancer Ayurvedic Treatment
Stomach Cancer - आमाषय का कैंसर आज दिन-प्रतिदिन युवा पीढ़ी में तरह-तरह की नई आदतों का समावेष बहुत ही तीव्र गति से हो रहा है और उनमें प्रमुख है-मदिरा-सेवन(Sharab)। इसके सेवन से शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है, उसके उदाहरण हैं-तरह-तरह की दुर्घटनाएँ, हृदयरोग, अराजकता, अनुषासनहीनता आदि। इसके अतिरिक्त मदिरा मानव शरीर को खोखला करती हुई एक भयंकर रोग होने का कारण भी है, वह रोग है- आमाषय का कैंसर (Stomach Cancer)।  मुख्य रूप से मृत्यु के समस्त कारणों में आमाषय का कैंसर...

Read More

Esophageal Food pipe -Khane Ki Nali (ग्रासनली ) Cancer
esophagus cancer in hindi
Esophageal Food pipe ग्रासनली का कैंसर Khane ki nali ka Cancer - पाचन मार्ग के कैंसर में ग्रासनली का कैंसर स्त्रियों की अप्रेक्षा पुरूषों में अधिक पाया जाता है। यह अधिकतर 40 वर्ष से 60 वर्ष की अवस्था में देखा गया है, पर स्त्रियों में यह 30 वर्ष की अवस्था पष्चात् किसी भी उम्र में देखा जा सकता है। अंग्रजों की अप्रेक्षा काले लोगों में यह अधिक होता है। यह रोग अधिकांष बंगाल में पतले स्त्री और पुरूषों में अधिक...

Read More

Gale (Throat) Cancer Treatment In Hindi
Throat Cancer Treatment In Hindi गलार्बुद या Gale Ka Cancer निम्नलिखित स्थानों में आरंभ हो के बढ़ सकता है- -जीभ एवं टांसिल के बीच के गढ़ में आरंभ हो आगे की ओर बढ़ना। -आगे जीभ के किनारों तथा मुख भूमि ।सअमवसने के साथ पर बढ़ना। -तालु, गलशुंडि टांसिल में शुरू हो बढ़ना। Gale (Throat) Cancer Karan -मद्यपान का अति सेवन। -चूसने वाली तमाकू का नियमित सेवन। -पान का अधिक प्रयोग। -लौह की कमी से उत्पन्न रक्तन्यूनता (सहायक कारण)। यह कैंसर पुरूषों...

Read More

masudo ka cancer
Masudo Ka Cancer मसूड़ों का कैंसर मसूड़ों के कैंसर में निचले मसूड़ों का कैंसर ऊपरी मसूड़ों के कैंसर की तुलना में अधिक होता है। इस प्रकार का कैंसर वृद्धावस्था में अधिक होता है तथा 40 वर्ष से कमकी अवस्था के व्यक्तियों में बहुत कम होता है। Masudo Ka Cancer Karan - कारण- -कृत्रिम दाँतों का मसूड़ों में ठीक से फिट न होना है। -मसूड़ों में उत्पन्न व्रण।-दाँतों में कीड़े लगना। -सिफिलिस। -तमाकू को चूसने के रूप में अधिक सेवन तथा सुघनी आदि का अधिक...

Read More

Muh Ka cancer
Muh Ka Cancer Treatment Hindi अन्य कैंसरों की तरह मुँह का कैंसर भी कोषिकाओं की असामान्य वृद्धि से ट्यूमर या कोषिकाओं के ढेर का निर्माण करता है। ओरल कैंसर के अन्तर्गत ओंठों, मुँह या ओरल केविटी फैंरेक्स व ऊपरी गले के कैंसर आते है। ये कैंसर प्रायः आसानी से दिख जाते है।  इन कैंसरों में प्रमुख हैं- मुँह के प्लोर का कैंसर, फैंरेक्स या साफट प्लेट का कैंसर, ओंठों का कैंसर तथा जीभ का कैंसर। अन्य कैंसरों में सेलीवरी ग्रंथि,...

Read More

Wordpress Content Copy blocker plugin by JaspreetChahal.org